यू-ट्यूब से बने करोड़पति

इस आर्टिकल में आपको मालूम हो जाएगा कि कौन कौन यू-ट्यूब से बने करोड़पति। सोशल मीडिया साइट यू-ट्यूब पर आप अकसर रोचक वीडियो देखते होंगे। क्या आपको पता है कि जैसे ही आप एक पूरा वीडियो देख लेते हैं तो वीडियो बनानेवाले के खाते में कुछ रुपए जाने की संभावना बढ़ जाती है।

आप भी यू-ट्यूब पर वीडियो बनाकर यू-ट्यूब से बने करोड़पति, बशर्ते आप अपनी ऑडियंस को सही तरीके से समझ पाएँ। सोशल मीडिया साइट पर युवाओं का बढ़ता रुझान यू-ट्यूब पर वीडियो बनाकर अपलोड करनेवालों के लिए एक फायदे का सौदा बनता जा रहा है।

Cyber cafe business plan : इस बिजनेस से आप महीने में 40 हज़ार से भी ज्यादा कमा सकते है।

फोर्ब्स मैगजीन के मुताबिक 26 वर्षीय फेलक्स क्लेजबर्ग सिर्फ अपने यू-ट्यूब चैनल पीडीपाई के जरिए अरबों की कमाई करते हैं। इसके बाद नंबर आता है, रोमन अटवुड चैनल का। इस चैनल को सब्सक्राइब करनेवालों की संख्या 1,01,55,036 के स्तर पर पहुँच गई है। रोमन अटवुड कई तरह के प्रैंक बनाकर चर्चा में रहते हैं। रोमन अटवुड की सालाना कमाई 54 करोड़ रुपए के स्तर पर पहुँच गई है।

सुपर वुमन जो यू-ट्यूब से बने करोड़पति

तीसरे नंबर पर भारतीय मूल की लिली सिंह हैं, जो ‘सुपर वुमन’ नाम से चैनल चलाती हैं। उनके चैनल को सब्सक्राइब करनेवालों की संख्या 1,03,36,049 है। फोर्ब्स के मुताबिक उनकी कुल कमाई 50 करोड़ रुपए है।

लिली सबसे ज्यादा कमाई करनेवाली महिला भी हैं, जो यू-ट्यूब से बने करोड़पति। इसके बाद नंबर आता है कॉमेडियन इयान और एंथनी का। इनके चैनल को सब्सक्राइब करनेवालों की संख्या 53,39,808 है।

अपनी कॉमेडी के जरिए ये दोनों करीब 47 करोड़ रुपए की कमाई यू-ट्यूब के जरिए कर लेते हैं। ये दोनों फिल्मों के निर्माण में भी जुटे हुए हैं। टेलर ओकली कमाई के मामले में पाँचवें नंबर पर हैं। टेलर ओकली के यू-ट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करनेवालों की संख्या 80,86,885 है।

यू-ट्यूब से बने करोड़पति
यू-ट्यूब से बने करोड़पति

वे अपने टॉक शो के जरिए 40 करोड़ रुपए तक कमा लेते हैं। क्या आप भी यू-ट्यूब के जरिए रुपए कमाना चाहते हैं, तो आइए, हम आपको बताते हैं कि कैसे आप अपना यू-ट्यूब चैनल बनाकर खुद की एक पहचान बना सकते हैं। हर यू-ट्यूब खाता एक चैनल अटैच होता है।

आप अपने जी-मेल खाते के जरिए भी अपना यू-ट्यूब चैनल बना सकते हैं। इस यू-ट्यूब खाते को आप गूगल ड्राइव के जरिए भी एक्सेस कर सकते हैं। खुद का यू-ट्यूब चैनल बनाने के बाद कुछ ऐसे की-वर्ड्स डालने होंगे, जिन्हें सर्च करने पर आपका यू-ट्यूब चैनल आसानी से लोग खोज सकें।

अपने यू-ट्यूब वीडियो से कैसे पैसा कमाएँ

अगर आपका यू-ट्यूब चैनल ज्यादा-से-ज्यादा लोगों का ध्यान अपनी तरफ आकर्षित कर रहा है और इस पर ज्यादा पेज व्यूज मिल रहे हैं तो आपको इसके जरिए रुपए कमाने के लिए वीडियो को जल्द-से-जल्द मॉनिटाइज करना होगा। वीडियो मॉनिटाइजेशन का सीधा सा अर्थ है कि आपके वीडियो में गूगल अपने विज्ञापन चला सके।

ओरिजनल कंटेंट अपलोड कीजिए और यू-ट्यूब से बने करोड़पति।

यू-ट्यूब चैनल के जरिए आप तभी रुपए कमाने में कामयाब होंगे, जब आपका चैनल खुद का क्रिएट किया हुआ और लोगों को इंगेज करनेवाला कंटेंट हो। इस ओरिजनल कंटेंट को यू-ट्यूब पर अपलोड करने के साथ ही इस वीडियो की क्वालिटी को भी तय किया जा सकता है। वीडियो कंटेंट का साइज भी निर्भर करता है। यूजर्स को ऐसा कंटेंट चाहिए होता है, जो सबसे कम इंटरनेट डाटा की खपत करे, साथ ही विज्ञापन पाने के लिए चैनल पर कंटेंट लगातार अपडेट होता रहना चाहिए। हर वीडियो के लिए स्पेशल की-वर्ड्स को ही चुनें, साथ ही ट्रेंडिंग टॉपिक और नए वीडियो को भी ध्यान में रखें।

यू-ट्यूब वीडियो का मॉनिटाइजेशन कीजिए और यू-ट्यूब से बने करोड़पति।

इसके लिए आपको अपने यू-ट्यूब चैनल के डैशबोर्ड पर जाना होगा। यहाँ से मॉनिटाइजेशन बॉक्स पर क्लिक करना होगा। इसके अलावा दूसरा विकल्प यह होता है कि आप वहाँ से मॉनिटाइजेशन नहीं कर पा रहे हैं तो चैनल सेटिंग्स पर जाएँ। चैनल सेटिंग पर जाकर मॉनिटाइजेशन टैब पर क्लिक करें। इसके बाद मॉनिटाइज विद एड बॉक्स पर क्लिक करना होगा।

यू-ट्यूब से बने करोड़पति पेड मेंबरशिप के द्वारा।

यू-ट्यूब ने चैनलवालों के लिए पेड मेंबरशिप का नया ऑप्शन पेश किया है। इसके तहत, यू-ट्यूबर्स विज्ञापनों के अलावा अपने व्यूवर्स को मेंबरशिप बेचकर भी कमाई कर सकेंगे।

हालाँकि यह सुविधा यू-ट्यूब वीडियो देखनेवालों के पक्ष में नहीं है, क्योंकि उन्हें वीडियो देखने से पहले पैसे देने पड़ सकते हैं। ऐसे चैनल, जिनके 1,00,000 से अधिक सब्सक्राइबर्स हैं, वे चैनल मेंबरशिप का पेड सब्सक्रिप्शन शुरू कर सकते हैं, जिसके बाद वीडियो देखनेवाले व्यूवर्स द्वारा मेंबरशिप के लिए चैनल्स को 4.99 डॉलर प्रति महीने भुगतान करने होंगे।

उदाहरण के तौर पर अगर आपको किसी यू-ट्यूब चैनल के सभी वीडियो पसंद आते हैं और आपने उस चैनल को सब्सक्राइब किया है तो वह चैनल आपसे ‘चैनल मेंबरशिप’ लेने के लिए कह सकता है।

इस दौरान अगर आप चैनल को पैसे देते हैं तो वीडियो देख पाएँगे और नहीं देने पर आप उस चैनल के वीडियो को नहीं देख पाएँगे। वीडियो बनानेवाले चैनल्स शर्ट या फोन के कवर जैसी वस्तुएँ भी अपने चैनल पर बेच सकते हैं।

यू-ट्यूब से बने करोड़पति जब यू-ट्यूब का मेल देगा खुशखबरी।

जिस यू-ट्यूब चैनल पर आप वीडियो अपलोड कर रहे हैं, अगर आपके चैनल के किसी वीडियो को बहुत ज्यादा व्यूज मिलते हैं तो यू-ट्यूब की तरफ से एक मेल आएगा। यकीनन आपके लिए खुशी की बात है।

इस मेल में यू-ट्यूब में जिस वीडियो का नाम होगा, उस वीडियो को अपलोड करने के लिए कंपनी आपको पैसे देगी, लेकिन यह सिर्फ एक वीडियो के लिए ही होगा। विज्ञापन पाने के लिए हर वीडियो को अलग-अलग मॉनिटाइज करना होगा।

यह खबर उन दोनों यूजर्स के लिए है, जिनके खुद के यू-ट्यूब चैनल हैं या जो यू-ट्यूब पर अपने पसंदीदा वीडियो को देखते हैं। मान लीजिए, आप यू-ट्यूब पर अपना चैनल चलाते हैं और ठीक-ठाक सब्सक्राइबर होने पर कुछ पैसे भी कमाते हैं,

तो ये तो जानते ही होंगे कि अकसर यू-ट्यूब द्वारा वीडियो बनानेवाले यूजर्स को ठीक-ठाक पैसे नहीं देने पर आलोचना का सामना करना पड़ता है, इसलिए यू-ट्यूब ने यू-ट्यूब चैनल्सवालों को नए तरीके से पैसे कमाने का विकल्प दिया है। अब यू-ट्यूब चैनल अपने सब्सक्राइबर और व्यूवर्स से पैसे भी ले सकेंगे।

4,000 घंटे वॉचटाइम

यू-ट्यूब ने अब अपनी पॉलिसी में बदलाव कर दिया है। पहले यू-ट्यूब पर कमाई के लिए न्यूनतम 10 हजार व्यूज चाहिए होते थे, लेकिन नई पॉलिसी के तहत अब पिछले 12 महीनों में आपके चैनल पर वीडियोज कम-से-कम 4 हजार घंटे तक प्ले होने चाहिए। इसके अलावा, आपके कम-से-कम 1 हजार सब्सक्राइबर्स होने चाहिए। इन दोनों मानकों को पूरा करने के बाद ही यू-ट्यूब के जरिए आप कमाई करने के योग्य हो जाओगे।

45:55 के रेशियो में यू-ट्यूब बाँटता है मुनाफा

यू-ट्यूब से जो भी कमाई होती है, उसका 45 फीसदी हिस्सा यू-ट्यूब के पास जाता है और शेष 55 फीसदी आपके पास आएगा। यह कमाई आपके चैनल पर आ रहे विज्ञापनों के जरिए होती है। ये विज्ञापन आपको तब मिलते हैं, जब आपके चैनल की व्यूअरशिप बढ़ती है।

अपने टैलेंट को पहचानें और यू-ट्यूब से बने करोड़पति।

यू-ट्यूब पर अपना चैनल बेहतर तरीके से चला रहे एक कंटेंट क्रिएटर के मुताबिक इंटरनेट, कैमकॉर्डर और एडिटिंग की बेसिक जानकारी के अलावा सबसे जरूरी यह है कि आप अपने टैलेंट को पहचानें। आपको यह निर्धारित करना होगा कि आप किस प्रकार का वीडियो ऑनलाइन डालना चाहते हैं। एक बार निर्धारित होने के बाद आप यू-ट्यूब पर अपना चैनल बनाएँ।

मार्केटिंग के जरिए भी यू-ट्यूब से बने करोड़पति।

यू-ट्यूब पर सिर्फ विज्ञापनों के जरिए ही कमाई नहीं होती। इसके अलावा एक और तरीका है, जिससे आप कमाई कर सकते हैं। अगर आपके चैनल की व्यूअरशिप बहुत ही बेहतर हो गई है और आपने सब्सक्राइबर्स की संख्या भी ज्यादा है तो आप किसी भी कंपनी का मार्केटिंग कर कमाई कर सकते हों।

आप को किसी भी उत्पाद या सेवा का डिस्क्रिप्शन बॉक्स में अपने चैनल पर एक वीडियो का लिंक पेस्ट करनाहै। इस वीडियो में उत्पाद या सेवा से जुड़ी जानकारी होगी। अगर कोई विजिटर उस लिंक के जरिए आपके चैनल पर पहुँचता है तो इससे आपकी कमाई होगी।

आज यू-ट्यूब दुनिया की सबसे बड़ी ऑनलाइन वीडियो साइट बन चुका है। अगर हमें कोई भी वीडियो देखना हो तो हम सबसे पहले यू-ट्यूब पर ही आते हैं। इसकी पहुँच आज हर व्यक्ति तक है। यह एक ऐसी वीडियो साइट है, जिसमें लोग अपने मजे के वीडियोज का आनंद ले सकते हैं।

इसकी शुरुआत एक खास दिन—14 फरवरी, यानी कि वैलेंटाइन-डे के खास मौके पर 2005 में हुई थी। खास बात यह है कि वीडियो साइट बनने से पहले यू-ट्यूब एक डेटिंग साइट थी। इसे दुनिया में लाने में चाड हर्ले, स्टीव चेन और जावेद करीम का हाथ है। इससे पहले तीनों ही पेपैल में काम किया करते थे। यू-ट्यूब की स्थापना के डेढ़ साल बाद दिग्गज सर्च इंजन कंपनी गूगल ने इसे 165 करोड़ डॉलर में खरीद लिया।

यह उस समय की सबसे बड़ी ऑनलाइन डील भी साबित हुई। इस पर हर एक मिनट में 100 घंटे से भी ज्यादा समय के वीडियो अपलोड होते हैं। 24 घंटे में यानी कि हर दिन इस पर एक अरब घंटे के बराबर वीडियोज देखे जाते हैं। गूगल और फेसबुक के बाद यू-ट्यूब वर्ल्ड की सबसे बड़ी वेबसाइट है और यह गूगल के बाद विश्व का दूसरा बड़ा सर्च इंजन है।

सबसे बड़ी वीडियो शेयरिंग वेबसाइट यू-ट्यूब से बने करोड़पति।

यू-ट्यूब दुनिया की सबसे बड़ी वीडियो शेयरिंग वेबसाइट है, जहाँ पर आप अपना वीडियो बनाकर या किसी भी विषय से संबंधित वीडियो बनाकर अपलोड कर सकते हैं और इतना ही नहीं, आप इन वीडियो से पैसे भी कमा सकते हैं, लेकिन जब यू-ट्यूब बनाया गया था, उस समय ऐसा कुछ भी नहीं सोचा गया था कि इस ने वीडियो को अपलोड करके पैसे भी कमाए जाएँगे।

यू-ट्यूब आने से पहले भी कुछ वेबसाइटें थीं, जिन पर आप वीडियो अपलोड कर सकते थे, लेकिन यू-ट्यूब पर वीडियो अपलोड करके शेयरिंग का एक अलग ही प्लेटफॉर्म लोगों को दिया, जिसके कारण आज यू-ट्यूब इतना लोकप्रिय हो गया है।

यू-ट्यूब ही नहीं, इंटरनेट पर ऐसी और भी बहुत सारी वेबसाइटें हैं, जो कि किसी-न-किसी विषय से संबंधित प्रसिद्ध हो गई हैं, जैसे कि फेसबुक, गूगल, ट्विटर इत्यादि। इन वेबसाइटों में यू-ट्यूब ही एक ऐसी वेबसाइट है, जिसका इस्तेमाल आज की दुनिया में सबसे ज्यादा हो रहा है। आज लोग सबसे ज्यादा वीडियोज, मूवीज, वीडियो सॉन्ग, फनी वीडियो यू-ट्यूब पर ही देखते हैं।

यू-ट्यूब का इतिहास और निर्माण

सबसे पहले इंटरनेट वर्ष 1990 में अस्तित्व में आया और 1991 में पहली बार इंटरनेट पर कोई वेबसाइट चलाई गई और इससे पहले सबसे पहली बार इंटरनेट पर सर्च इंजन को 1990 में लगाया गया और वहाँ से इंटरनेट पर लोगों ने कुछ भी चीज को सर्च करना शुरू किया।

जब सर्च इंजन लगाया गया तो उसके बाद ही लोग कुछ-न-कुछ चीजें इसके ऊपर सर्च करने लगे और इंटरनेट के बारे में जानकारी लोगों को होने लगी। फिर उसके बाद 1998 में गूगल कंपनी ने अपना सर्च इंजन बनाया और फिर उसके बाद लोगों को किसी भी जानकारी को प्राप्त करने के लिए ज्यादा कठिनाई का सामना नहीं करना पड़ा और गूगल के सर्च इंजन के आने के बाद लोगों को जानकारी प्राप्त करना बहुत ही आसान हो गया।

1998 में जब गूगल कंपनी द्वारा सर्च इंजन लाया गया था, उसी समय में पेपैल का भी अविष्कार हुआ और इसमें चाड हर्ले, जावेद करीम, स्टीव चेन कंपनी के एंप्लॉइज थे। इन तीनों ने मिलकर एक ऑनलाइन डेटिंग वेबसाइट डेवलप की और एक कंपनी शुरू की। उस कंपनी का नाम था ‘ट्यून इन हुकअप’। इस वेबसाइट का मतलब यह था कि कोई भी यूजर अपना खुद का वीडियो इंटरनेट पर अपलोड कर सकता था।

इन वीडियो को देखकर अन्य यूजर यह निर्णय करते थे कि उसे हुकअप करना या नहीं करना है, लेकिन उनका यह आइडिया बिल्कुल फेल हो गया। यह तरीका सही से काम नहीं कर पाया।

तीनों का पहला तरीका फेल हो जाने के बाद इन्होंने 2005 में सोचा कि इंटरनेट पर कोई ऐसी वेबसाइट नहीं है, जो कि वीडियो शेयरिंग वेबसाइट हो, क्योंकि जावेद करीम ने देखा कि 2004 में सुपर बॉल इंसिडेंट में हुए जैनेट जैकसन और इंडियन ओसियन सुनामी के वीडियो को इंटरनेट पर देखना बहुत मुश्किल था।

इसलिए इन्हीं कठिनाई के कारण इन तीनों ने सोचा कि कुछ ऐसी चीज बनाई जाए, जिससे कि इंटरनेट पर न सिर्फ वीडियो आसानी से देखा जाए, बल्कि उस पर किसी भी तरह के वीडियो को बहुत आसानी से सर्च भी किया जाए और बस इसी कठिनाई के चलते इन तीनों ने वीडियो शेयरिंग वेबसाइट यू-ट्यूब बनाई।

यू-ट्यूब की यात्रा

यू-ट्यूब की सबसे पहली शुरुआत 14 फरवरी, 2005 को की गई और सबसे पहले 23 अप्रैल, 2005 को यूजर्स के लिए बीटा वर्जन यू-ट्यूब पर 18 सेकंड का वीडियो बनाया गया और इस वीडियो का नाम ‘मी एट द जू’ था।

यह वीडियो आज भी जावेद करीम के यू-ट्यूब अकाउंट पर उपलब्ध है। इसी वीडियो पर सबसे पहला कमेंट आया था। सितंबर 2005 में यू-ट्यूब पर नाइक एड एक मिलियन व्यू पर पहुँचवाला पहला वीडियो बना। नवंबर 2005 में शिकूया कैपिटल ने 3.5 मिलियन का पहला फंड-इन किया।

दिसंबर 2005 में यू-ट्यूब आधिकारिक रूप से लॉञ्च कर दिया गया। इंटरनेट पर गूगल ने यू-ट्यूब की बढ़ती लोकप्रियता को देखते हुए 2006 में 1.65 मिलियन यू.एस. डॉलर में इसे खरीद लिया। उस समय यू-ट्यूब के लगभग 67 एंप्लॉई थे, जिन्होंने यू-ट्यूब के बाद गूगल में काम करना शुरू कर दिया। मई 2007 में यू-ट्यूब ने पार्टनर प्रोग्राम को लॉञ्च किया, जिसका इस्तेमाल करके यू-ट्यूब पर क्रिएटर्स अपना टैलेंट, हिम्मत और हुनर दिखाकर पैसा कमाना शुरू कर सकते थे।

जुलाई 2007 में यू-ट्यूब ने सी.एन.एन. के साथ मिलकर यू.एस. प्रेसिडेंशियल डिबेट को होस्ट किया। 2009 में वीवो म्यूजिक वीडियो सर्विस शुरू की गई और 2010 में मूवी रेंटल सर्विस शुरू की गई। 2010 में बहुत से वीडियो ऐसे थे, जो बहुत ज्यादा लोकप्रिय होने लगे। 2012 में जब लंदन में ओलंपिक खेल हुए थे, उन सभी खेलों की यू-ट्यूब ने लाइव स्ट्रीम भी दिखाई और 2012 के ओलंपिक खेलों के प्रचार-प्रसार में भी यू-ट्यूब का बहुत बड़ा हाथ रहा।

2012 में ही गंगनम स्टाइल सॉन्ग वीडियो ने बिलियन व्यू को रीच किया। यू-ट्यूब वीडियो रिकॉर्डर 32 बिट इन्टिजर तक ही बनाया गया था। गंगनम स्टाइल सॉन्ग के बाद व्यू को 64 बिट इन्टिजर बनाया गया।

शुरू में यू-ट्यूब को देखने के लिए अडोब फ्लैश प्लेयर सॉफ्टवेयर को इंस्टॉल करना पड़ता था। उसके बाद ही यू-ट्यूब देख सकते थे, लेकिन 2015 में यू-ट्यूब ने एच.टी.एम.एल.5 वीडियो प्लेबैक सेवा को शुरू किया, जिसके कारण यूजर को अलग से फ्लैश प्लेयर इंस्टॉल करने की जरूरत नहीं होती थी।

इसी तरह समय के साथ-साथ यू-ट्यूब बदलता गया और वीडियो क्वालिटी में बहुत से बदलाव कर दिए—3डी वीडियो, 360 डिग्री वीडियो और यू-ट्यूब रेड, यू-ट्यूब टी.वी. जैसे फीचर इसके अंदर लगा दिए गए।

विज्ञापन से कमाई करके यू-ट्यूब से बने करोड़पति।

यू-ट्यूब की कमाई उसके विज्ञापनों से होती है, जब भी क्रिएटर्स अपने वीडियो अपलोड करते हैं तो उन वीडियो पर वे अपने विज्ञापन लगाते हैं और उन विज्ञापनों द्वारा ही कमाई होती है।

यू-ट्यूब आज भी अपने यूजर्स को बढ़िया -से-बढ़िया और अच्छी-से-अच्छी सर्विस उपलब्ध कराने की कोशिश कर रहा है। आनेवाले समय में यू-ट्यूब में और भी बढ़िया फीचर हमें देखने को मिल सकते हैं और यू-ट्यूब दिन-प्रतिदिन बहुत ही लोकप्रिय होता जा रहा है और अब यू-ट्यूब पर किसी भी वीडियो या किसी भी चीज को देखने के लिए ज्यादा कठिनाई नहीं होती है।

यू-ट्यूब अपने पंजीकृत सदस्यों को वीडियो अपलोड करने, देखने, शेयर करने, पसंदीदा वीडियो के रूप में जोड़ने, रिपोर्ट करने, टिप्पणी करने और दूसरे सदस्यों के चैनल की सदस्यता लेने देता है। इसमें सदस्यों से लेकर कई बड़ी कंपनियों के वीडियो मौजूद रहते हैं।

इनमें वीडियो क्लिप, टी.वी. कार्यक्रम, संगीत वीडियो, फिल्मों के ट्रेलर, लाइव स्ट्रीम आदि होते हैं। कुछ लोग इसे वीडियो ब्लॉगिंग के रूप में भी इस्तेमाल करते हैं। गैर-पंजीकृत सदस्य केवल वीडियो देख ही सकते हैं, वहीं पंजीकृत सदस्य असीमित वीडियो अपलोड कर सकते हैं और वीडियो में टिप्पणी भी जोड़ सकते हैं।

कुछ ऐसे वीडियो, जिसमें मानहानि, उत्पीड़न, नग्नता, अपराध करने हेतु प्रेरित करनेवाले वीडियो या जो भी 18 वर्ष से कम आयु के लोगों के लिए घातक हों, उन्हें सिर्फ 18+ आयु के पंजीकृत सदस्य ही देख सकते हैं। यू-ट्यूब अपनी कमाई गूगल एडसेंस से करता है, जो साइट की सामग्री और दर्शकों के हिसाब से अपना विज्ञापन देता है।

इसमें अधिकांश वीडियो मुफ्त में देखे जा सकते हैं, पर कुछ वीडियो को देखने के लिए पैसे देने पड़ते हैं। इनमें से फिल्में उधार लेकर देखना भी शामिल है, जिसमें आप कुछ पैसे देकर फिल्म देख सकते हैं। यू-ट्यूब प्रीमियम की सदस्यता भी आप पैसे देकर ले सकते हैं, जिससे आप बिना कोई विज्ञापन के कई सारे वीडियो देख सकते हैं और साथ ही यू-ट्यूब प्रीमियम पर कुछ ऐसे वीडियो भी हैं, जिन्हें सिर्फ आप यू-ट्यूब प्रीमियम की सदस्यता खरीदकर ही देख सकते हैं।

यू-ट्यूब से दौलत और शोहरत कमानेवालों की अब कमी नहीं रह गई है। कौन सी चीज दर्शकों को भा जाए, कुछ नहीं पता। बहुतेरे उदाहरण हैं, जिन्हें शुरुआत में काफी मुश्किलें आईं, लेकिन बाद में इन्हें इस माध्यम के जरिए लोगों ने हाथोहाथ लिया।

खाना बनाने की टिप्स से लेकर गीत-संगीत, फिल्म, मर्ज दूर करने के नुस्खों तक यहाँ सबकुछ मिलता है। शायद ही कुछ ऐसा हो, जो आप खोजें और यू-ट्यूब पर उसका जवाब न मिल पाए।

आप लोग इस तरह की जानकारी पाकर यू-ट्यूब से बने करोड़पति और आपने जीवन को बहुत ज्यादा बेहतर बनाए।

Leave a Reply

Your email address will not be published.